sitaro ka nagar Hindi shayari

झील मिलाता ये सितारों का नगर हे

आसमा के आंगन में चाँद का घर हे

Jheel milata ye sitaro ka nagar he

Aasma ke aangan me chand ka ghar he

रौशनी जो लुटता हे चाँद रात भर

शबनम में होता इसका असर हे

Roshani jo lutata he chand raat bhar

Shabnam me hota iska asar he

हवा गम सुम मगर पैगाम सुनती हे

रहे अनजान मगर बाहे फेलाती हे

Hawa gum sum magar pegaam sunati he

Rahe anjaan magar paas bulati he

मंजिल दूर मगर पास बुलाती हे

तुम हो वहां  जहा से सदा ये आती हे

Manjil dur magar paas bulati he

Tum ho waha jaha se sada ye aati he

झील मिलाता ये सितारों का नगर हे

आसमा के आंगन में चाँद का घर हे

Jheel milata ye sitaro ka nagar he

Aasma ke aangan me chand ka ghar he

Leave a comment