Shabnam ki ladi – Dosti Shayari

जब भी फलक ने सितारों को लुटाया हे 

निशा ने बढ़ कर अपना दमन फेलाया हे 

Jab bhi falak ne sitaro ko lutaya he 

Nisha ne badh kar apna daman felaya he

चमक धरती उठी धरती सारी

फिर चाँद मुस्काया हे 

Chamak uthi dharti saari 

Fhir chand muskaya he 

रोशन हो गई शमा जुगनुओ से 

फूलो फिर गुलशन महकाया हे 

Roshan ho gai shama jugnuo se 

Phoolo ne fhir gulshan mehkaya he

टूट के बिखर गयी शबनम की लड़ी 

राहो ने फिर बाहों को फेलाया हे 

Tut ke bikhar gai shabnam ki ladi 

Raho ne fhir daman felaya he

वादियों ने फिर सदा दी हे हमे 

सबा ने फिर गीत गुनगुनाया हे 

Vadiyo ne fhir sada di he hume 

Saba ne fhir geet gungunaya he 

Leave a comment