Rahat indori ki mashhur shayari

बुलाती है मगर जाने का नइ ये दुनिया है इधर जाने का नइ

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर  मगर हद से गुजर जाने का नइ

bulaatee hai magar jaane ka nai ye duniya hai idhar jaane ka nai

mere bete kisee se ishq kar magar had se gujar jaane ka nai

 

ज़ुबाँ तो खोल नज़र तो मिला जवाब तो दे

मैं कितनी बार लूटा हूँ मुझे हिसाब तो दे।

zubaan to khol dekho to mila javaab to de

main bahut baar roba hoon mujhe ganana to de.

 

जा के ये कह दो कोई शोलो से, चिंगारी से

फूल इस बार खिले है बड़ी तय्यारी से

jubaan to khol dekho to mila javaab to de

main bahut baar roba hoon mujhe ganana to de.

 

बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के ना लिए

हमने ख़ैरात भी माँगी है तो ख़ुद्दारी से।

baadashaahon se bhee phenke hue sikke na lie

hamane khairaat bhee maangee hai to khuddaaree se.

 

आँखों में पानी रखो होठों पे चिंगारी रखो

जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो।

aankhon mein paanee rakho hothon pe chingaaree rakho

jinda rahana hai to tarakeeben bahut saaree rakho.

 

एक ही नदी के है यह दो किनारे दोस्तो

दोस्ताना ज़िन्दगी से, मौत से यारी रखो।

ek hee nadee ke hai yah do kinaare dosto

dostaana zindagee se, maut se yaaree rakho.

 

तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पे वार करो

मल्लाहों का चक्कर छोड़ो,

तैर के दरिया पार करो

फूलों की दुकानें खोलो,

ख़ुशबू का व्यापार करो

इश्क़ ख़ता है तो ये ख़ता एक बार नहीं सौ बार करो।

toofaanon se aankh milao, sailaabon pe vaar karo

mallaahon ka chakkar chhodo,

tair ke dariya paar karo

phoolon kee dukaanen kholo,

khushaboo ka vyaapaar karo

ishq khata hai to ye khata ek baar nahin sau baar karo.

 

मैं वो दरिया हूँ की हर बूंद भँवर है जिसकी,

तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

main vo dariya hoon kee har boond bhanvar hai jisakee,

tumane achchha hee kiya mujhase kinaara karake.

 

दो ग़ज सही ये मेरी मिल्कियत तो है

ऐ मौत तूने मुझे जमींदार कर दिया।

do gaj sahee ye meree milkiyat to hai

ai maut toone mujhe jameendaar kar diya.

 

कुशादा ज़र्फ़ होना चाहिए  छलक जाने का भर जाने का नइ

सितारें नोच कर ले जाऊँगा  मैं खाली हाथ घर जाने का नइ

kushaada zarf hona chaahie chhalak jaane ka bhar jaane ka nai

sitaaren noch kar le jaoonga main khaalee haath ghar jaane ka nai

 

वबा फैली हुई है हर तरफ  अभी माहौल मर जाने का नइ

वो गर्दन नापता है नाप ले  मगर जालिम से डर जाने का नइ

vaba phailee huee hai har taraph abhee maahaul mar jaane ka nai

vo gardan naapata hai naap le magar jaalim se dar jaane ka nai

 

अगर ख़िलाफ़ है होने दो जान थोडी है

ये सब धुआँ है आसमन थोड़ी है

लागेगी आग से आयेंगे घर की ज़दमें

यहाँ पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हु के दुश्मन भी काम नहीं

लेकिन हमारी तरह हथेली पे जान थोडी है

हमरे मुहां से जो निकले वही सदाकत है

हमरे मुहँ मे तुमहारी जुबान थोडी है

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे

किराएदार है ज़ाति मकान थोडी है

सभी का खून है शामिल यहाँ की मिटटी  में

किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोडी है

 

Agar khilaaf hai hone do jaan thodi hai

Ye sab dhuaan hai aasman thodi hai

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad me

Yahan pe sirf humara makan thodi hai

Main jaanta hoon ke dushman bhi kam nahi

Lekin humari tarah hatheli pe jaan thodi hai

Humare muhn se jo nikale wahi sadaakat hai

Humare muhn me tumhari zuban thodi hai

Jo aaj saahibe masnad hain kal nahin honge

Kiraaydaar hain zaati makaan thodi hai

Sabhi ka khoon shaamil yahan ki mitti me

Kisi ke baap ka hindustan thodi hai

 

-Rahat Indori (राहत इन्दोरी )

Leave a comment