Rahat Indori 2 line shayari

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

main ne apanee khushk aankhon se lahoo chhalaka diya
ik samundar kah raha tha mujh ko paanee chaahie

 

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

shaakhon se toot jaen vo patte nahin hain ham
aandhee se koee kah de ki auqaat mein rahe

 

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे
जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे

sooraj sitaare chaand mire saat mein rahe
jab tak tumhaare haat mire haat mein rahe

 

कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

kolej ke sab bachche chup hain kaagaz kee ik naav lie
chaaron taraf dariya kee soorat phailee huee bekaaree hai

 

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

roz patthar kee himaayat mein gazal likhate hain
roz sheeshon se koee kaam nikal padata hai

 

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

mainne apanee khushk aankhon se lahoo chhalaka diya,
ik samandar kah raha tha mujhako paanee chaahie.

 

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

bahut guroor hai dariya ko apane hone par
jo meree pyaas se ulajhe to dhajjiyaan ud jaen

 

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

nae kiradaar aate ja rahe hain
magar naatak puraana chal raha hai

Leave a comment