Nazar mila ke new hindi shayari and love shayari

Spread the love

नजर मिला के  

नज़र मिला के मुझ से  मुझको दीवाना बना दिया 

इक पल की मुलाकत को अफसाना बना दिया 

Nazar mila ke mujh se mujh ko diwana bana diya                   

 Ik pal ki mulakat ka afsana bana diya  

तोहफा हम ने माँगा था एक हंसी दीदार का 

आके बाहों में मेरी मुझे खूब सूरत नज़राना दिया 

Tohfa hum ne maanga tha ek hansi didar ka               

  aake bahno me meri mujhe khubsurat nazrana diya  


Spread the love

Leave a comment