Nature shayari – फूल पर शबनम

नदियों की कल – कल सरगम छेड़ जाती है ,

फूल पर शबनम एसे मुस्कुराती है

 

Nadiyon kee kal – kal saragam ​​chhed jaati hai ,

Phool par shabanam ese muskuraatee hai

Leave a comment