Mirza Ghalib ki mashhur Shayari

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया ,

वरना हम भी आदमी थे काम के |

Ishq ne gaalib nikamma kar diya ,

Varana ham bhee aadamee the kaam ke |

 

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़।
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।

un ke dekhe se jo aa jaatee hai munh par raunaq.
vo samajhate hain ki beemaar ka haal achchha hai.

 

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है।
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।

dil-e-naadaan tujhe hua kya hai.
aakhir is dard kee dava kya hai.

 

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले,

बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

Hazaaron khwahishein aisi ke har khwahish pe dum nikle,

Bahut nikle mere armaan lekin phir bhi kam nikle

 

ना था कुछ तो खुदा था कुछ न होता तो खुदा होता

डुबोया मुझ को होने ने ना होता मैं तो क्या होता

Na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota

Duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota

 

वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं!
कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते हैं

Vo aae ghar mein hamaare, khuda kee qudarat hain!
kabhee ham umako, kabhee apane ghar ko dekhate hain

 

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है

jala hai jism jahaan dil bhee jal gaya hoga
kuredate ho jo ab raakh justajoo kya hai

 

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’।
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।

ishq par jor nahin hai ye vo aatish gaalib.
ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bujhe..

 

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई

tum na aae to kya sahar na huee
haan magar chain se basar na huee
mera naala suna zamaane ne
ek tum ho jise khabar na huee

 

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

hamako maaloom hai jannat kee haqeeqat lekin,
dil ke khush rakhane ko gaalib ye khayaal achchha hai

 

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो

yahee hai aazamaana to sataana kisako kahate hain,
adoo ke ho lie jab tum to mera imtahaan kyon ho

 

बिजली इक कौंध गयी आँखों के आगे तो क्या,
बात करते कि मैं लब तश्न-ए-तक़रीर भी था।

bijalee ik kaundh gayee aankhon ke aage to kya,
baat karate ki main lab tashn-e-taqareer bhee tha.

 

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता !

huee muddat ki gaalib mar gaya par yaad aata hai,
vo har ik baat par kahana ki yoon hota to kya hota !

 

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है

har ek baat pe kahate ho tum ki too kya hai
tumheen kaho ki ye andaaz-e-guftagoo kya hai

 

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

ragon mein daudate phirane ke ham nahin qaayal
jab aankh hee se na tapaka to phir lahoo kya hai

Leave a comment