Love Shayari Aks tera

ढूंडते फिर रहे तुझे हम चरागों की लो में

किसी रौशनी में नहीं मिलता अक्स तेरा

 

Dhoondate phir rahe tujhe

Ham charaagon kee lo me

Kisi roshani me nahi

Milta aks tera