khat likhte the Romantic shayari

देख के तेरा भोलापन हमने

चाहत का सिलसिला शुरू किया

खत लिखते थे जवाब आता था

खत में छुपा गुलाब आता था

Dekh ke tera bholaapan hamane

Chaahat ka silasila shuroo kiya

Khat likhate the javaab aata tha

Khat mein chhupa gulaab aata tha

 

सिलसिला तुझ से शुरू हुआ

खत्म भी तुम्ही से होगा

मोहब्बत कायम रहेगी कयामत तक

दोर चाहे सांसो का खत्म हो जाए

Silasila tujh se shuroo hua

Khatm bhee tumhee se hoga

Mohabbat kaayam rahegee kayaamat tak

Dor chaahe saanso ka khatm ho jae

 

नखरो नज़ाकतों का दौर हे मोहब्बत चाहतों का दौर हे

कहना ना के सिर्फ मुलाकातों का दौर हे

Nakharo nazaakaton ka daur he mohabbat chaahaton ka daur he

Kahana na ke sirph mulaakaaton ka daur he

 

हम मोहब्बत की बारात लेके आए

हम चाहतो को साथ लेकर आए

तुमने ये कैसे कह दिया हमसे

हम तुम से मिलने खली हाथ लेके आए

Ham mohabbat kee baaraat leke aae

Ham chaahato ko saath lekar aae

Tumane ye kaise kah diya hamase

Ham tum se milane khalee haath leke aae

Leave a comment