Husn ke bazar me – Love shayari

मोहब्बत का तकाजा हे तुम यु खफा ना होना

दिल का सौदा कर बैठे हम हुस्न के बाज़ार में

Mohabbat ka takaaja he tum yu khapha na hona

Dil ka sauda kar baithe ham husn ke baazaar mein

 

नजदीकियां और नादानियाँ दोनों जरुरी हे

लोग होश्यारो के करीब नहीं आते

Najadeekiyaan aur naadaaniyaan donon jaruree he

Log hoshyaaro ke kareeb nahin aate

 

दर्दे दिल की दवा ढूंढ़ता हे

वह सरे बाज़ार क़ज़ा ढूंढ़ता हे

कह दो उससे मिलती नहीं कहि

वह हर दर पे वफ़ा ढूंढ़ता हे

Darde dil kee dava dhoondhata he

Vah sare baazaar qaza dhoondhata he

Kah do usase milatee nahin kahi

V-ah har dar pe vafa dhoondhata he

 

दर्द भी अजीब था मेरा जख्म भी हरा था

क्यों की वह नादान था क्यों की वह नादान था

Dard bhee ajeeb tha mera jakhm bhee hara tha

Kyon kee vah naadaan tha kyon kee vah naadaan tha

Leave a comment