Hindi shayari on dosti , Meri subah ho tum

GUDIA / गुड़िया 

 

मेरी सुबह हो तुम मेरी शाम हो तुम
मेरी छोटी सी दुनिया का आसमान हो तुम

Meri subah ho tum meri sham ho tum
Meri chhoti si dunya ka aasman ho tum

 

तुम नहीं तो कुछ नहीं तुम हो तो सब कुछ छहे
मेरी पहली ख्वाहिश आखरी अरमान हो तुम

Tum nahi to kuch nahi tum ho to sab kuch he
Meri pahli kwahish mera aakhri arman ho tum

 

हर कोई तुम्हे चाहे हर कोर्ड तुम्हारी आरज़ू करे
हर दिल अज़ीज़ ऐसी सी मेहमान हो तुम

Har koi tumhe chahe har koi tumhari aarzu kre
har dil aziz esi hasi mehman ho tum

 

फूलो सी हंसी कलिओ सी मुस्कान तुम्हारी
अनजाने शहर में मेरी वह पहचान हो तुम

Anjane sahar me meri woh phchan ho tum
Phoolo si hasi kalio si muskan tum hari

 

मेरे कहने से हस देती मेरे कहने से रो देती
गुड़िया अब भी कितनी भोली कीतनि नादाँ हो तुम

Mere khne se has deti mere khne se ro deti
GUDIYA ab bhi kitni bholi kitni nadaan ho tum

Spread the love

1 thought on “Hindi shayari on dosti , Meri subah ho tum”

Leave a comment