hansi chand hindi shayari love shayri

HANSI CHAND /हंसी चाँद 

हमने देखा हे हंसी चाँद के चेहरे पर                                                       

  तेरे लबो के तबस्सुम सा नज़ारा 

Ham ne dekha he hansi chand ke chehre par                             

  Tere labo ke tabssum sa nazara  

लहराती जुल्फों से उठती काली घटा का अनधियारा                       

     महकती सांसो में समाया हुआ गुलशन सारा  

 Lahrati julfo se uthti kali ghata ka andhiyara                         

 Mahkti sanso me samaya hua gulshan sara 

बाहों में बुलाती हुई मुझको तेरी                                         

     बेचैन निगाहो का इशारा 

Bahno me bulati hui mujhko teri 

 Bechain nigaho ka ishara  

सारी दुनिया से जीता  मगर  साजिद   

इक तुम ही से ये दिल हरा  

Sari duniya se jita magar SAJID                                   

     Ik tum hi se ye dil hara

Spread the love

Leave a comment