Faiz Ki Mashhur shayari

दिल नाउम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है
लंबी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है।

Dil naummeed to nahin, naakaam hee to hai
Lambee hai gam kee shaam, magar shaam hee to hai

 

आदमियों से भरी है यह सारी दुनिया मगर
आदमी को आदमी होता नहीं है दस्तयाब*

Aadamiyon se bharee hai yah saaree duniya magar
Aadamee ko aadamee hota nahin hai dastayaab

 

क़फ़स उदास है यारो सबा से कुछ तो कहो
कहीं तो बहर-ए-ख़ुदा आज ज़िक्र-ए-यार चले

Qafas udaas hai yaaro saba se kuchh to kaho
Kaheen to bahar-e-khuda aaj zikr-e-yaar chale

 

तुम्हारी याद के जब जख्म भरने लगते है
किसी बहाने तुमको याद करने लगते हैं

Tumhaaree yaad ke jab jakhm bharane lagate hai
Kisee bahaane tumako yaad karane lagate hain

 

वो बात सारे फ़साने में जिस का ज़िक्र न था
वो बात उन को बहुत ना-गवार गुज़री है

Vo baat saare fasaane mein jis ka zikr na tha
Vo baat un ko bahut na-gavaar guzaree hai

 

इक गुल के मुरझाने पर क्या गुलशन में कोहराम मचा
इक चेहरा कुम्हला जाने से कितने दिल नाशाद हुए

Ik gul ke murajhaane par kya gulashan mein koharaam macha
Ik chehara kumhala jaane se kitane dil naashaad hue

 

अब जो कोई पूछे भी तो उस से क्या शरह-ए-हालात करें
दिल ठहरे तो दर्द सुनाएँ दर्द थमे तो बात करें

Ab jo koee poochhe bhee to us se kya sharah-e-haalaat karen
Dil thahare to dard sunaen dard thame to baat karen

 

जिन्दगी क्या किसी मुफलिस की कबा है
जिसमें हर घड़ी दर्द के पैबन्द लगे जाते हैं

Jindagee kya kisee muphalis kee kaba hai
Jisamen har ghadee dard ke paiband lage jaate hain

 

दिल नाउम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है
लंबी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है।

Dil naummeed to nahin, naakaam hee to hai
Lambee hai gam kee shaam, magar shaam hee to hai.

 

यह बाजी इश्क की बाजी है जो चाहे लगा दो डर कैसा
गर जीत गये तो कहना क्या, हारे भी तो बाजी मात नही

Yah baajee ishk kee baajee hai jo chaahe laga do dar kaisa
Gar jeet gaye to kahana kya, haare bhee to baajee maat nahe

 

आये तो यूं कि जैसे हमेशा थे मेहरबां,
भूले तो यूं कि जैसे कभी आश्ना न थे।

Aaye to yoon ki jaise hamesha the meharabaan,
Bhoole to yoon ki jaise kabhee aashna na the.

 

Leave a comment