Dost shayari jab ladkhda te he kadam

जब लड़खड़ाते हे कदम

तेरा हाथ थाम लेता हे मुझे

दुनिया में तेरे सिवा मुझे

हमदर्द कोई नहीं मिला दोस्त

 

Jab ladkhadaate he kadam

Tera haath thaam leta he mujhe

Duniya mein tere siva mujhe

Hamadard koee nahi mila dost