Dost banaya he Romantic shayari

नज़रो ने यह धोका खाया हे

दुश्मन को दोस्त बनाया हे

ये दुश्मन जो दोस्तों से भी प्यारा हे

आशिक़ नहीं वह इश्क़ हमारा हे

 

Nazro ne yah dhoka khaaya he

Dushman ko dost banaya he

Ye dushman jo dosto se bhi pyaara he

Aashiq nahi voh ishq hamara he