Deewane bane Love Shayri

 

 

दीवानों की महफिल में दीवाने बने बेठे हे

यानि हम खुद में खुद को भुलाये बेठे हे

Deewano ki mahfil me deewane bane bethe he

Yani ham khud me khud ko bhulaye bethe he

नशा मोहब्बत का चढ़ा हे तेरी अदावत दिल कर बेठा  हम से

केसे समझाये खुद को बता दे जरा हम को

Nasha mohabbat ka chda teri adawat dil kar betha ham se

Kese samjhaye khud ko bata de jara ham ko

तू यु बेचेन  क्यों हे तू यु उदास क्यों हे

तूने ही तो दिल में बसाया था हम से हम को चुरा के

Tu yu bechen kyu he tu yu udas kyu he

Tune hi to dil me basaya tha ham se ham ko chura ke

नजदीकिय जब बड़ी तुम से दुनिया को भूल गए हम

जब होस आया तो दुनिया हम से रूठ चुकी थी

Nazdikiya jab badi tum se duniya ko bhul gaye ham

Jab hos aaya to duniya ham se ruth chuki thi

थक चुके हे कदम जुबा लड़खड़ाटती  हे

कब तक तेरा  इन्तेजार करे बता दिल बर मेरे

Thak chuke kadam juba ladkhadati he

Kab tak tera intejar kare bata dil bar mere

Leave a comment