Dard shayari – Rafugaar

वो रफुगार भी परेशां हे में भी हैरान हू ,,,,,

एक जख्म सिलता नही के दूसरा लग जाता हैं …!

 

Vo raphugaar bhee pareshaan he

Mein bhee hairaan hoo ,,,,,

Ek jakhm silata nahee ke

Doosara lag jaata hain …!

Leave a comment