Chehra love shayari

Love Shayari Image

 

तेरे चेहरे की चमक से चांदनी शरमा  रही हे

खुली  जो जुल्फ तो घटा सी छा रही हे

Tere chehre ki chamak se chandni sharma rahi he

Khuli jo julf to ghata si cha rahi he

पंखुड़ी से नाजुक लबो रुखसार पर

शबनम की बुँदे मुस्का रही हे

Pankhudi se najuk labo rukhsar par

shabnam ki bunde muska rahi hai

Love shayari hindi

 

कोई हे यहाँ पर इसका हमे एहसास हे

सांसे किसी की हमको बुला रही हे

Koi he yaha par isko hame ehsas he

sanse kisi ki hamko bula rahi he

हमने पूछा मगर कोई नहीं जानता

सबा उसके घर का पता बता रही हे

Hamne puchha magar koi nahi janta

sabaa uske ghar ka pata bata rahi hai

Leave a comment