Bashir badr ki mashhur shayari

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो शर्मिन्दा न हों

Dushmanee jam kar karo lekin ye gunjaish rahe
Jab kabhee ham dost ho jaen to sharminda na hon

 

जिस दिन से चला हूं मेरी मंज़िल पे नज़र है
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा

Jis din se chala hoon meree manzil pe nazar hai
Aankhon ne kabhee meel ka patthar nahin dekha

 

इतनी मिलती है मेरी ग़ज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझको मेरा महबूब समझते होंगे

Itanee milatee hai meree gazalon se soorat teree
Log tujhako mera mahaboob samajhate honge

 

सच सियासत से अदालत तक बहुत मसरूफ़ है
झूट बोलो, झूट में अब भी मोहब्बत है बहुत

Sach siyaasat se adaalat tak bahut masaroof hai
Jhoot bolo, jhoot mein ab bhee mohabbat hai bahut

 

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा

Ham bhee dariya hain hamen apana hunar maaloom hai
Jis taraf bhee chal padenge raasta ho jaega

 

मुहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला

Muhabbaton mein dikhaave kee dostee na mila
Agar gale nahin milata to haath bhee na mila

 

सात सन्दूकों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें
आज इन्सां को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत

Saat sandookon mein bhar kar dafn kar do nafaraten
Aaj insaan ko mohabbat kee zaroorat hai bahut

Leave a comment