हुस्न तेरा | Romantic shayari

शबनम ने लूट के चाँद की रौशनी

रहो में मोतियों को बिखेरा हे

Shabanam ne loot ke chaand kee raushanee

Raho mein motiyon ko bikhera he

 

संवर गया हुस्न तेरा गजब का निखार आया हे

ए चाँद जब से तू अंधियारे के पार आया हे

Sanvar gaya husn tera gajab ka nikhaar aaya he

A chaand jab se too andhiyaare ke paar aaya he

Leave a comment