शायरी इन हिंदी – निगाहें

निगाहें ढूंढ रही जिसको

जाने किस ओट में छुपा है वह चाँद सा मुखड़ा

 

Nigaahen jisako dekhakar hosh ud gae

Jaane kis ot mein chhupa hai vah chaand sa mukhada

Leave a comment