फैसले Sad shayari

ऐसे भी होते हे फैसले सोचा न था

वह सामने था मेरे और मेरा न था

Aise bhee hote he phaisale socha na tha

Vah saamane tha mere aur mera na tha

तुम ये कैसे जुदा हो गए

हर तरफ हर जगह हो गए

Tum ye kaise juda ho gae

Har taraph har jagah ho gae

तोड़ा हे दिल हमारा किसी ने अपनी निगाहे मोड़ के

पूछते हे दर्द कम हे या बड़ा दे नाता किसी से जोड़ के

Oda he dil hamaara kisee ne apanee nigaahe mod ke

Poochhate he dard kam he ya bada de naata kisee se jod ke

Spread the love

Leave a comment