दोस्ती शायरी , इंतज़ार

कोई देखे न  देखे राह तुम्हारी सनम ,

हम तो इंतज़ार में सुबह को शाम कर रहे है |

 

 

Koi dekhe na dekhe rah tumhaaree sanam ,

Ham to intazaar mein subah ko shaam kar rahe hai |

Leave a comment