Nazar Romantic Shayari

Share and Spread Love गुलशन की हर कली खिल उठेगी गर एक नज़र देख लिया तुमने उधर Gulashan kee har kalee khil uthegee Gar ek nazar dekh liya tumane udhar     नजरो से तुम्हे कुछ कहा मगर तुम समझ ना पाए दूर उतने ही लगे जितने तुम मेरे करीब आए Najaro se tumhe kuchh … Read more

Spread the love

Zulf romantic shayari

Zulf romantic shayari

Share and Spread Love जुल्फों बादलो में छुपा हे एक चाँद सा मुखड़ा वो हे हमारे दिल जिगर जान का टुकड़ा Julphon baadalo mein chhupa he ek chaand sa mukhada Vo he hamaare dil jigar jaan ka tukada   जुल्फ खुली तो घटा छा गई पलक उठी तो गुलशन महक गया Julph khulee to ghata … Read more

Spread the love

मौत के उजाले – सेड शायरी

मौत के उजाले - सेड शायरी

Share and Spread Love हर दर्द से निजात दिला देते हे मौत के उजाले नई दुनिया बसा देते हे मौत के उजाले Har dard se nijaat dila dete he maut ke ujaale Naee duniya basa dete he maut ke ujaale   हर चेहरा बे पर्दा हो जाता हे ऐसा आइना बना देते हे मौत के … Read more

Spread the love

Bashir badr ki mashhur shayari

Bashir badr ki mashhur shayari

Share and Spread Love दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो शर्मिन्दा न हों Dushmanee jam kar karo lekin ye gunjaish rahe Jab kabhee ham dost ho jaen to sharminda na hon   जिस दिन से चला हूं मेरी मंज़िल पे नज़र है आंखों ने कभी मील … Read more

Spread the love

Husn ke bazar me – Love shayari

Husn-ke-bazar-me---Love-shayari

Share and Spread Love मोहब्बत का तकाजा हे तुम यु खफा ना होना दिल का सौदा कर बैठे हम हुस्न के बाज़ार में Mohabbat ka takaaja he tum yu khapha na hona Dil ka sauda kar baithe ham husn ke baazaar mein   नजदीकियां और नादानियाँ दोनों जरुरी हे लोग होश्यारो के करीब नहीं आते … Read more

Spread the love

Rahat Indori 2 line shayari

Rahat Indori 2 line shayari

Share and Spread Love मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए main ne apanee khushk aankhon se lahoo chhalaka diya ik samundar kah raha tha mujh ko paanee chaahie   शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम आँधी से कोई कह दे … Read more

Spread the love

Faiz Ki Mashhur shayari

faiz-ki-mashhur-shayari

Share and Spread Love दिल नाउम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है लंबी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है। Dil naummeed to nahin, naakaam hee to hai Lambee hai gam kee shaam, magar shaam hee to hai   आदमियों से भरी है यह सारी दुनिया मगर आदमी को आदमी होता नहीं है … Read more

Spread the love